जिन्दगी में वक्त ⏰ से ज्यादा अपना या पराया कोई नहीं होता, वक्त अपना तो सब अपने होते है और वक्त पराया तो अपने ही पराये.. ??