वो तरक्की ही, किस काम की ?? जो बुढापे में माँ बाप👴🧓 का सहारा न बन सके !